RAM VILASH PASHWAN

पटना: पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. रामविलास पासवान की आज 5 जुलाई को जयंती है. उनकी जयंती को लेकर लोजपा(रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने काफी तैयारी की है. इस बार चिराग पासवान अपने पिता की जयंती हाजीपुर में मना रहे हैं. यहां पर रामविलास पासवान की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा. इसको लेकर तैयारी पूरी कर ली गई है.

बता दें कि चिराग पासवान ने इसके बारे में पहले ही जानकारी दे दी थी. वहीं, तैयारी जोरों पर थी. इस प्रतिमा अनावरण के मौके पर रमविलास पासवान का पूरा परिवार मौजूद रहेगा. इस कार्यक्रम के मौके पर चिराग पासवान ने अपने चाचा पशुपति कुमार पारस को भी आमंत्रित किया है.

बताया जा रहा है कि रामविलास पासवान की जयंती के मौके पर प्रतिमा अनावरण को लेकर हाजीपुर को काफी भव्य तरीके से सजाया गया है. पार्टी का बैनर पोस्टर लगाया गया है. रामविलास पासवान की पुरानी तस्वीरें लगाई गई है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की जीवनी की बात करें तो उनका जन्म बिहार के खगड़िया जिले के शहरबन्‍नी गांव में 5 जुलाई 1946 को हुआ था. 74 साल की उम्र में उन्होंने दिल्ली में अंतिम सांस ली थी.

देश के लोगों रामविलास पासवान का नाम 1977 के चुनाव के बाद सुना. क्योंकि वो ऐसे नेता थे जिन्होंने बिहार की एक सीट पर इतने अंतर से चुनाव जीता कि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया. रामविलास पासवान ने जनता पार्टी के टिकट पर हाजीपुर की सीट से कांग्रेस उम्मीदवार को सवा चार लाख वोट से हराया था और लोकसभा में पैर रखा था. इसके आठ साल पहले यानी 1969 में ही वो विधायक का चुनाव जीत चुके थे.

रामविलास पासवान एक ऐसे नेता थे जिन्हें मौसम वैज्ञानिक कहा जाता था. आज भी इस नाम से लोग उन्हें जानते हैं. रामविलास पासवान ने अपने भाई पशुपति कुमार पारस और राम चंद्र पासवान को राजनीति में लाया था. वहीं, दूसरी ओर वंशवादी की बात भी सामने आने लगी थी.

2019 में लोकसभा में जिन छह सीटों पर एलजेपी की जीत दर्ज हुई उसमें से 3 सीट पर परिवार का कब्जा था. जीतने वालों में बेटे चिराग पासवान, भाई पशुपति कुमार पारस और राम चंद्र पासवान परिवार के ही थे.

0Shares
Total Page Visits: 114 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *