पटना:- क्या बिहार आतंकियों के लिए ऐसी जगह बन गया है, जहां उन्हें आराम से आसरा मिल जा रहा है। सोमवार की रात दिल्ली में पकड़े गये पाकिस्तानी आतंकी के पास जो दस्तावेज मिले हैं उससे ऐसे ही संकेत मिल रहे हैं। पाकिस्तान से आय़े आतंकी को आराम से बिहार में पनाह मिल गयी। उसने बिहार में ऐसे दस्तावेज भी बनवा लिये जिससे वह भारतीय नागरिक बन गया। दिल्ली पुलिस ने इसका खुलासा किया है जिसके बाद बिहार पुलिस सकते में है।

पाकिस्तानी आतंकी को बिहार में पनाह

दरअसल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सोमवार की रात लक्ष्मीनगर इलाके से एक पाकिस्तानी आतंकी को गिरफ्तार किया है। आतंकी मोहम्मद असरफ पाकिस्तान के पंजाब सूबे के नरोवाल का रहने वाला है, वह पिछले 15 सालों से भारत में रह रहा था। दिल्ली पुलिस असरफ की गिरफ्तारी को बडी कामयाबी मान रही है और उससे आतंक के बडे नेटवर्क के खुलासे की उम्मीद में है। पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश कर 14 दिनों के रिमांड पर ले लिया है।

दिल्ली में पकड़े गये आतंकी के पास से पुलिस ने असलहे के साथ साथ कई कागजात भी बरामद किये हैं। उसके पास से भारत का पहचान पत्र बरामद हुआ है। आतंकी असरफ ने बिहार के किशनगंज जिले से अपना आधार कार्ड बनवा लिया था। उसी आधार कार्ड के सहारे उसने दिल्ली में अपने लिए घर से लेकर मोबाइल औऱ दूसरे सारे संसाधन जुटा लिये थे। दिल्ली पुलिस से मिल रही जानकारी के मुताबिक असरफ करीब दस पहले बांग्लादेश के रास्ते सिलीगुड़ी बॉर्डर से भारत में घुसा था। वहां से किशनगंज पहुंचा औऱ स्थानीय सहयोगियों की मदद से आधार कार्ड बनवा लिया।

किशनगंज से आधार कार्ड बनवाने के बाद वह दिल्ली चला गया। दिल्ली में उसने उसी आधार कार्ड के सहारे मोबाइल का सिम ले लिया। वह किराये के मकान में रह रहा था और मकान मालिक को पहचान के लिए किशनगंज का आधार कार्ड देता था। दिल्ली पुलिस की शुरूआती छानबीन में पता रहा है कि असरफ भारत में रहकर स्लीपर सेल की तरह काम कर रहा था। उसने भारत में अली अहमद नूरी के नाम से आधार कार्ड बनवाया था औऱ इसी नाम से दिल्ली के शास्त्री नगर इलाके में रह रहा था। दिल्ली में वह खुद को पीर मौलाना बताता था। दिल्ली पुलिस को असरफ के पास से एक एके-47 रायफल,  एक मैगजीन, एक हैंड ग्रेनेड और 50 राउंड के साथ दो पिस्टल बरामद किया है।

बिहार पुलिस सकते में

आतंकी असरफ के बारे में मिली जानकारी को दिल्ली पुलिस ने बिहार पुलिस के साथ शेयर किया है। इसके बाद बिहार पुलिस सकते में है। बिहार पुलिस मुख्यालय ने दिल्ली से मिले इनपुट के आधार पर ही अलर्ट जारी किया है। सूत्र बता रहे हैं कि किशनगंज पुलिस को इस बात की पड़ताल का आदेश दिया गया है कि पाकिस्तानी आतंकवादी ने फर्जी आधार कार्ड कैसे बनवा लिया। इस काम में और कौन से लोग शामिल हैं। किसकी मदद से उसने आधार कार्ड बनवाया।

हालांकि बिहार पुलिस इस मसले पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। मीडिया ने जब बिहार पुलिस के एडीजी जितेंद्र सिंह गंगवार से इस बाबत बात की उन्होंने आधिकारिक तौर पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि कुछ जानकारी शेयर की गयी है, मामले की पड़ताल की जा रही है। अगर कुछ सामने आता है तो मीडिया को जानकारी दी जायेगी।

लखीसराय के रामगढ़ प्रखंड के नोनगढ़ पंचायत में क्या है विकास का हाल, देखें किसे बनाना चाहते हे मुखिया

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *