नालंदा:- सरमेरा प्रखंड के धनावां काजीचक गांव से होकर गुजरने वाली धनायन नदी में मंगलवार की सुबह स्नान के दौरान चार बच्चियों की डूबने से मौत हो गई। चारों बच्चियां एक-दूसरे की चचेरी बहनें थीं और अपने सगे भाई-बहनों में सबसे छोटी थीं। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि चारों एक-दूसरे को बचाने के चक्कर में गहरे पानी में डूब गईं। चारों के शव नदी से निकाल लिए गए हैं। उनके शव नदी किनारे रखे गए हैं। स्वजन मौके पर ही मुआवजे की मांग पर अड़े हैं और पुलिस को शव उठाने नहीं दे रहे हैं। थानाध्यक्ष ग्रामीणों को समझाने में लगे हैं। चारों तरफ चीख-पुकार मची है।

जानकारी एक नजर में:

– चारों आपस में चचेरी बहनें, एक-दूसरे को बचाने में गई जान

–  बालू के अवैध खनन के कारण हुए गड्ढे ने ले ली चार की जान

– पुलिस मौके पर पहुंची, स्वजन मुआवजे को अड़े, उठने नहीं दे रहे शव

चारों बच्चियां अपने भाई-बहनों में थीं सबसे छोटी

ग्रामीणों का आरोप है कि अवैध बालू खनन के कारण नदी में जगह-जगह गहरे गड्ढे हो गए हैं। बीते दिनों लगातार बारिश के कारण नदी पानी से लबालब है। गड्ढे भी पानी से भर गए हैं। ऐसे में गहराई का अंदाजा लगाना मुश्किल है। चारों बच्चियां भी तैरते हुए ऐसे ही एक गड्ढे तक पहुंच गईं। एक को डूबते देख तीनों बचाने को आगे बढ़ीं परंतु एक-एक कर चारों डूब गईं। नदी की किनारे रहे लोग जब तक चारों को पानी से बाहर निकालते, उनकी मौत हो चुकी थी। मृतकों में सीता कुमारी (12 वर्ष) पिता जर्नादन रविदास, सोनम कुमारी (13 वर्ष) पिता नवल मोची, राखी कुमारी (11 वर्ष) पिता शिवपूजन रविदास तथा सरिता कुमारी (11 वर्ष) पिता कृष्ण मोची शामिल हैं।

उपचुनाव में तेजस्वी – कन्हैया आमने सामने,Congresss ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट

0Shares
Total Page Visits: 84 - Today Page Visits: 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *