बाढ़ :- पटना से सटे बाढ़ प्रखंड के अचुआरा दाल मिल के पास हाईवे पर काले रंग की बाइक पर सवार अपराधियों ने ओवरटेक कर ऑटो में अगली सीट पर बैठे इंटर के छात्र सुमित शर्मा उर्फ गोलू पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। अपराधियों ने गोलू पर चार गोलियां दागीं। दिनदहाड़े हाईवे पर हुई वारदात के बाद अफरातफरी मच गई। छात्र की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के विरोध में ग्रामीणों ने शव को रखकर हाईवे जाम कर दिया।

अथमलगोला थाना क्षेत्र के हासन चक गांव निवासी नवीन कुमार का पुत्र सुमित शर्मा(18 ) बाढ़ के कोचिंग संस्थान से पढ़ाई समाप्त करने के बाद ऑटो से घर लौट रहा था। करीब 2.30 बजे दोपहर में जब वह अचुआरा दाल मिल के पहुंचा, इसी दौरान पीछे से ओवरटेक कर दो बाइक पर सवार अपराधी अचानक पहुंचे। ऑटो को कवर करते हुए पिस्तौल लहरा कर ऑटो रुकवाया। सुमित शर्मा को निशाना साध कर अपराधियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

ग्रामीणों का आरोप है कि 9 एम एम पिस्टल से गोलियां चलाई गई हैं। घटना को अंजाम देने के बाद बाइक पर सवार हमलावर बाढ़ की तरफ तेजी से भाग निकले। घटना के बाद मौके पर बाढ़ थाने की पुलिस तुरंत पहुंची और जख्मी को अस्पताल पहुंचाया, जहां पर चिकित्सक ने सुमित शर्मा को मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी मिलने के बाद परिजन और ग्रामीण काफी संख्या में सुमित शर्मा को खोजने लगे। उन्हें शव के पुलिस वाहन में होने की जानकारी नहीं मिली। इसके बाद शव को गायब करने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने हंगामा शुरू कर दिया। बाद में शव मिलने के बाद हंगामा शांत हुआ।

अचुआरा गांव में भी जाम लगाया गया। इसके बाद अथमलगोला थाने के हासन चक गांव के पास छात्र के शव को पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों ने हाईवे पर रख दिया और हंगामा करने लगे। अचुआरा गांव में घटनास्थल के पास जाम के दौरान कई पुलिस कर्मियों के साथ उपद्रवियों ने बदसलूकी भी की। हंगामे के बाद अनुमंडल के कई थाने की पुलिस को मौके पर तैनात किया गया। प्रखंड विकास पदाधिकारी और अंचलाधिकारी को भी भेजा गया। लेकिन ग्रामीणों ने उनकी बात नहीं मानी। जाम स्थल पर मौजूद ग्रामीणों का कहना था कि मृतक के परिजनों को मुआवजा एवं जन वितरण प्रणाली की दुकान जिला प्रशासन के द्वारा मुहैया कराई जाए। पुलिस ने ऑटो चालक को हिरासत में लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है।

मेधावी छात्र था सुमित शर्मा

सुमित शर्मा के पिता किसान नवीन कुमार की 2 वर्ष पूर्व मौत हो गई थी ।मृतक अपने घर का इकलौता चिराग था। परिजनों का सुमित शर्मा पर ही आस टिकी हुई थी। मैट्रिक की परीक्षा निजी स्कूल से उसने काफी अच्छे नंबर से पास की थी। इसके बाद उसने इंटर में एडमिशन लिया था । इंटर की तैयारी को लेकर बाढ़ के कोचिंग संस्था में उसने पढ़ाई शुरू की थी। उसकी मौत के बाद घर का इकलौता वारिस समाप्त हो गया। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था। वहीं ग्रामीण भी इस घटना को लेकर काफी गुस्से में थे।

कोचिंग विवाद की संभावना

सुमित शर्मा की हत्या के पीछे के कारणों की पुलिस जांच कर रही है। फिलहाल ऑटो चालक से घटना की जानकारी जुटाई जा रही है। चश्मदीद गवाह चालक ने पुलिस को घटना के बारे में बताया है। ग्रामीणों के अनुसार कोचिंग संस्थान से भी तार जुड़ा हो सकता। अपराधी पहले से सुमित शर्मा की रेकी कर रहे थे। लगता है ऑटो पर सवार होने की बाद अपराधी पीछा करते पहुंचे। सुमित शर्मा के मोबाइल की भी जांच की जा रही है।  दूसरी तरफ सीसीटीवी फुटेज को भी खोजा जा रहा है। हालांकि पुलिस कई पहलुओं पर जांच पड़ताल कर रही है ।पुलिस ने बताया कि हर हाल में अपराधियों को गिरफ्तार किया जाएगा। वहीं केस दर्ज करने को लेकर कार्रवाई की जा रही है।

चिराग-तेजस्वी की दोस्ती पर फायर ब्रांड नेता ने खोले राज #dtv_bharat

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *